Care लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
Care लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

शनिवार, 3 जून 2023

औरतों के कमर दर्द का घरेलू नुस्खा Home remedies for women's back pain



औरतों के कमर दर्द का घरेलू नुस्खा






 

यहां एक स्वस्थ आहार चार्ट है हिंदी में Here is a healthy diet chart in hindi


यहां एक स्वस्थ आहार चार्ट है हिंदी में:सुबह का नाश्ता:

  • एक कप दूध या दही
  • एक कटोरा ओट्स 



दोपहर का भोजन:

  • एक काटोरी सब्ज़ी (हरी सब्ज़ी, टमाटर, गोभी, आलू, आदि)
  • एक काटोरी दाल (अरहर, मूंग, मसूर, आदि)
  • एक काटोरी चावल या रोटी (गेहूं, मक्का, बाजरा, आदि)
  • एक काटोरी सलाद (गाजर, टमाटर, ककड़ी, प्याज, आदि)



शाम का नाश्ता:

  • एक छोटा काटोरी फ्रूट्स (सेब, केला, अंगूर, संतरा, आदि)
  • एक काटोरी मूंगफली या चना




रात का भोजन:

  • एक काटोरी सब्ज़ी (हरी सब्ज़ी, टमाटर, गोभी आदि)
  • एक काटोरी दाल (अरहर, मूंग, मसूर, आदि)
  • एक काटोरी सलाद (गाजर, टमाटर, ककड़ी, प्याज, आदि)




सोते समय:

  • एक कप दूध 

ध्यान दें:

  • स्वस्थ आहार के लिए प्रतिदिन पर्याप्त मात्रा में पानी पिएं।
  • तले हुए और मिठाईयों का सेवन कम से कम करें।
  • प्रोसेस्ड और तली हुई खाद्य पदार्थों से दूर रहें।
  • स्वस्थ तेलों का उपयोग करें, जैसे कि जैतून का तेल, कोकोनट ऑयल, और गाय का घी।
  • स्वस्थ और संतुलित आहार पर ध्यान दें और नियमित व्यायाम करें।
    यह आहार चार्ट आपको स्वस्थ जीवनशैली का अनुसरण करने में मदद कर सकता है। हालांकि, कृपया ध्यान दें कि हर व्यक्ति की आवश्यकताएं भिन्न हो सकती हैं, इसलिए अपने चिकित्सक या पोषण सलाहकार से सलाह लेना भी महत्वपूर्ण है।



 

बुधवार, 31 मई 2023

ओमेगा 3 स्वस्थ क्यों है Omega 3 why healthy

क्यों ओमेगा-3 को स्वस्थ माना जाता है

ओमेगा -3 फैटी एसिड एक प्रकार का पॉलीअनसैचुरेटेड फैट है जिसे आवश्यक माना जाता है क्योंकि मानव शरीर उन्हें अपने आप उत्पन्न नहीं कर सकता है और उन्हें आहार से प्राप्त किया जाना चाहिए। ये फैटी एसिड, विशेष रूप से ईकोसैपेंटेनोइक एसिड (ईपीए) और डोकोसाहेक्साएनोइक एसिड (डीएचए), कई स्वास्थ्य लाभ प्रदान करते हैं। यहाँ कुछ कारण बताए गए हैं कि क्यों ओमेगा-3 को स्वस्थ माना जाता है:

हृदय स्वास्थ्य: हृदय स्वास्थ्य पर उनके सकारात्मक प्रभावों के लिए ओमेगा -3 फैटी एसिड का व्यापक अध्ययन किया गया है। वे ट्राइग्लिसराइड के स्तर को कम करने, रक्तचाप को कम करने, रक्त वाहिका के कार्य में सुधार करने और सूजन को कम करने में मदद करते हैं। ये कारक सामूहिक रूप से दिल के दौरे, स्ट्रोक और अनियमित दिल की लय सहित हृदय रोग के कम जोखिम में योगदान करते हैं।

मस्तिष्क का कार्य और विकास: डीएचए, मुख्य ओमेगा-3 फैटी एसिड में से एक, मस्तिष्क का एक प्रमुख संरचनात्मक घटक है और मस्तिष्क के विकास और कार्य में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यह गर्भावस्था और प्रारंभिक बचपन के दौरान विशेष रूप से महत्वपूर्ण है। पर्याप्त ओमेगा-3 सेवन बच्चों और वयस्कों में बेहतर संज्ञानात्मक कार्य, स्मृति और ध्यान अवधि के साथ जुड़ा हुआ है।

सूजन और जोड़ों का स्वास्थ्य: ओमेगा-3 फैटी एसिड में सूजन-रोधी गुण होते हैं। वे पुरानी सूजन को कम करने में मदद कर सकते हैं, जो रूमेटोइड गठिया, ऑस्टियोआर्थराइटिस और अन्य सूजन संबंधी बीमारियों जैसी विभिन्न स्थितियों से जुड़ा हुआ है। ओमेगा -3 एस जोड़ों के दर्द और जकड़न को कम करने में मदद कर सकता है, समग्र संयुक्त स्वास्थ्य में सुधार कर सकता है।

नेत्र स्वास्थ्य: डीएचए आंखों में रेटिना का भी एक घटक है। पर्याप्त ओमेगा-3 का सेवन उम्र से संबंधित धब्बेदार अध: पतन (एएमडी) के कम जोखिम से जुड़ा हुआ है, जो वृद्ध वयस्कों में दृष्टि हानि का एक प्रमुख कारण है।
मानसिक स्वास्थ्य: ओमेगा-3 फैटी एसिड मानसिक स्वास्थ्य और मनोदशा के नियमन में भूमिका निभा सकता है। अध्ययनों से पता चलता है कि ओमेगा-3 अनुपूरण अवसाद और चिंता के लक्षणों को कम करने में मदद कर सकता है। बाइपोलर डिसऑर्डर और सिज़ोफ्रेनिया जैसी स्थितियों पर भी इसका सकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है।
गर्भावस्था और प्रारंभिक विकास: गर्भावस्था के दौरान भ्रूण के स्वस्थ विकास के लिए ओमेगा -3 फैटी एसिड, विशेष रूप से डीएचए महत्वपूर्ण हैं। वे बच्चे के मस्तिष्क, आंखों और तंत्रिका तंत्र के विकास में योगदान करते हैं। गर्भवती महिलाओं को अक्सर सलाह दी जाती है कि बच्चे की वृद्धि और विकास में सहायता के लिए पर्याप्त मात्रा में ओमेगा-3 का सेवन करें।
पुरानी बीमारियों का कम जोखिम: ओमेगा-3 फैटी एसिड कुछ प्रकार के कैंसर (जैसे स्तन, कोलन और प्रोस्टेट कैंसर), मधुमेह और चयापचय सिंड्रोम सहित विभिन्न पुरानी बीमारियों के कम जोखिम से जुड़ा हुआ है।
यह ध्यान देने योग्य है कि ओमेगा -3 एस कई स्वास्थ्य लाभ प्रदान करते हैं, लेकिन जब भी संभव हो तो उन्हें आहार स्रोतों के माध्यम से प्राप्त करना सबसे अच्छा होता है। ओमेगा -3 फैटी एसिड के अच्छे स्रोतों में वसायुक्त मछली (जैसे सैल्मन, मैकेरल और सार्डिन), अलसी के बीज, चिया के बीज, अखरोट और कुछ शैवाल-आधारित सप्लीमेंट शामिल हैं। यदि ओमेगा-3 की खुराक पर विचार किया जा रहा है, तो उचित खुराक निर्धारित करने के लिए एक स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर से परामर्श करना महत्वपूर्ण है

















 

सोंफ का पानी Fennel water



सोंफ का पानी  Fennel water






सोमवार, 29 मई 2023

विटामिन सी के फायदे Benefits of Vitamin C


विटामिन सी के फायदे  

विटामिन सी, जिसे एस्कॉर्बिक एसिड के रूप में भी जाना जाता है, एक पानी में घुलनशील विटामिन है जो शरीर में कई महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यहाँ विटामिन सी के कुछ प्रमुख लाभ दिए गए हैं:
एंटीऑक्सीडेंट स्थिति: विटामिन सी एक शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट है जो कणों को मुक्त कणों से होने वाले नुकसान से बचाने में मदद करता है। यह इन मुक्त कणों को बेअसर करने और ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करने में मदद करता है, जो हृदय रोग, कैंसर और न्यूरोडीजेनेरेटिव जैसा पुराना लाइसेंस है।
प्रतिरक्षा प्रणाली का समर्थन: विटामिन सी प्रतिरक्षा प्रणाली का समर्थन करने में अपनी भूमिका के लिए जाना जाता है। यह श्वेत रक्त कोशिकाओं के उत्पादन और कार्य को बढ़ावा देने में मदद करता है, जिससे संक्रमण से लड़ने के लिए आवश्यक हैं। यह प्राकृतिक मार्क एकता और एंटीबॉडी की गतिविधियों को भी उत्पन्न करता है, जो प्रतिक्रिया प्रतिक्रिया के महत्वपूर्ण घटक हैं।
कोलेजन सिंथ: कोलेजन के सिंथ के लिए विटामिन सी महत्वपूर्ण है, एक प्रोटीन जो त्वचा, हड्डियों, टेंडन और रक्त वाहिकाओं को संरचना प्रदान करता है। यह घाव भरने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है और स्वस्थ त्वचा को बनाए रखने में मदद करता है, इसके लोच को बढ़ावा देता है और उम्र बढ़ने को कम करता है।
बढ़ा हुआ आयरन अवशोषण: विटामिन सी के प्रकार पर आधारित सिक्योरिटी (नॉन-हीम आयरन) से आयरन के अवशोषण में सहायता करता है। यह आयरन के साथ मिलकर एक जटिल बनाता है, इसकी परत बनाई जाती है और आंतों में इससे अल्टिमेट को बनाया जाता है। यह उन लोगों के लिए विशेष रूप से लाभ है जो शाकाहारी या शाकाहारी आहार का पालन करते हैं, क्योंकि गैर-हीम लौह स्रोत उत्पादों से हीम आयरन की तुलना में कम आसानी से अवशोषित होते हैं।
मस्तिष्क स्वास्थ्य: विटामिन सी न्यूरोट्रांसमीटर के सिंथेसिस में शामिल होता है, जिसमें दार्शनिक और नोरेपीनेफ्राइन शामिल होते हैं, जो मूड झुकाव में भूमिका निभाते हैं। पर्याप्त विटामिन सी का स्तर कार्य का समर्थन करता है, साझेदारी में गिरावट के जोखिम को कम करता है और स्वस्थ आजीविका में योगदान करने में मदद कर सकता है।
नेत्र स्वास्थ्य: विटामिन सी, अन्य रूपों के साथ, उम्र से संबंधित आंख जैसे ग्लूकोस और धब्बेदार धब्बे: गिरने से बचाने में मदद कर सकते हैं। यह ऑक्सीडेटिव तनाव से लड़ने में मदद करता है और आंखों में रक्त वाहिकाओं के स्वास्थ्य का समर्थन करता है।
यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि जबकि विटामिन सी विभिन्न लाभ प्रदान करता है, केवल पूरक आहार पर लगातार रहने के बजाय संतुलित आहार से पोषक तत्व प्राप्त करना सबसे अच्छा होता है। अनियमित फल और विभिन्न, जैसे टकसाल फल, स्ट्रॉबेरी, कीवी, काली मिर्च, ब्रोकली और पालक, विटामिन सी के बेहतरीन स्रोत हैं।





 

नकारात्मक मानसिकता

नकारात्मक मानसिकता ना सिर्फ आपके व्यक्तित्व को खराब करती है बल्कि यह कई बिमारियों की वजह बन सकती है कैसे बदलें अपनी मानसिकता आप भी जानिये


 









हेल्थ को लेकर रहें सावधान Be careful about health


हेल्थ को लेकर रहें सावधान  Be careful about health

मैं एक डॉक्टर नहीं हूँ, लेकिन मैं कुछ सामान्य स्वास्थ्य युक्तियाँ और सुझाव प्रदान कर सकता हूँ। यदि आप किसी विशिष्ट स्वास्थ्य चेतावनी या चिंता की तलाश कर रहे हैं, तो हमेशा एक चिकित्सा पेशेवर से परामर्श करना सबसे अच्छा होता है। हालांकि, अच्छे स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए यहां कुछ सामान्य दिशानिर्देश दिए गए हैं:
नियमित जांच-पड़ताल: अपने प्राथमिक देखभाल चिकित्सक या स्वास्थ्य सेवा प्रदाता के साथ नियमित जांच-पड़ताल करें। ये नियुक्तियां किसी भी संभावित स्वास्थ्य समस्या का जल्द पता लगाने में मदद कर सकती हैं और समय पर हस्तक्षेप की अनुमति दे सकती हैं।
संतुलित आहार: एक अच्छी तरह से संतुलित आहार खाएं जिसमें भरपूर मात्रा में फल, सब्जियां, साबुत अनाज, लीन प्रोटीन और स्वस्थ वसा शामिल हों। प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थ, शक्कर युक्त स्नैक्स और उच्च सोडियम वाले भोजन के अत्यधिक सेवन से बचें।
शारीरिक गतिविधि: स्वस्थ वजन बनाए रखने के लिए नियमित व्यायाम करें, अपने हृदय प्रणाली को मजबूत करें और समग्र फिटनेस में सुधार करें। प्रति सप्ताह कम से कम 150 मिनट की मध्यम-तीव्रता वाली एरोबिक गतिविधि या 75 मिनट की जोरदार-तीव्रता वाली एरोबिक गतिविधि करने का लक्ष्य रखें।
हाइड्रेशन: पूरे दिन खूब पानी पीकर पर्याप्त रूप से हाइड्रेटेड रहें। आपकी आयु, गतिविधि स्तर और जलवायु के आधार पर सटीक राशि भिन्न हो सकती है।
पर्याप्त नींद: अपने शरीर को आराम और कायाकल्प करने की अनुमति देने के लिए पर्याप्त नींद लें। अधिकांश वयस्कों को प्रति रात 7-9 घंटे की नींद की आवश्यकता होती है, हालांकि व्यक्तिगत ज़रूरतें भिन्न हो सकती हैं।
तनाव प्रबंधन: तनाव को प्रबंधित करने के लिए स्वस्थ तरीके खोजें, जैसे विश्राम तकनीकों का अभ्यास करना, शौक में शामिल होना या प्रियजनों से समर्थन मांगना। पुराने तनाव का आपके शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है।
मानसिक स्वास्थ्य: अपने मानसिक स्वास्थ्य पर ध्यान दें और यदि आप उदासी, चिंता, या अन्य मानसिक स्वास्थ्य संबंधी चिंताओं की लगातार भावनाओं का अनुभव कर रहे हैं तो मदद लें। सहायता के लिए मानसिक स्वास्थ्य पेशेवर से संपर्क करने में संकोच न करें।
सुरक्षा उपाय: उचित सुरक्षा सावधानी बरतें, जैसे वाहनों में सीटबेल्ट पहनना, खेल गतिविधियों के दौरान सुरक्षात्मक गियर का उपयोग करना, सुरक्षित यौन व्यवहार करना और कार्यस्थल सुरक्षा के लिए दिशानिर्देशों का पालन करना।
याद रखें, ये सामान्य दिशा-निर्देश हैं, और हर किसी की स्वास्थ्य ज़रूरतें अलग-अलग हो सकती हैं। व्यक्तिगत सलाह के लिए स्वास्थ्य सेवा पेशेवरों से परामर्श करना और आपके पास होने वाली किसी भी विशिष्ट स्वास्थ्य चिंताओं को दूर करना महत्वपूर्ण है।




रविवार, 28 मई 2023

जीवन में कुछ बदलाव और हस्तक्षेप की स्थिति मधुमेह को सुधार करने में मदद कर सकते हैं

जीवन में कुछ बदलाव और हस्तक्षेप की स्थिति मधुमेह को सुधार करने में मदद कर सकते हैं


हालांकि मधुमेह को पूरी तरह से उलटना संभव नहीं है, जीवन में कुछ बदलाव और हस्तक्षेप की स्थिति को प्रभावी ढंग से अपना करने और समग्र स्वास्थ्य में सुधार करने में मदद कर सकते हैं। मधुमेह को अपने करने के लिए आप यहां से कुछ कदम उठा सकते हैं:
एक स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर से परामर्श लें: व्यक्तिगत मधुमेह प्रबंधन योजना तैयार करने के लिए डॉक्टर, आहार लेने वाले और मधुमेह शिक्षक सहित स्वास्थ्य देखभाल टीम के साथ काम करना महत्वपूर्ण है।
एक स्वस्थ आहार का पालन करें: एक संतुलित आहार लेने पर ध्यान दें जिसमें संपूर्ण खाद्य पदार्थ, लीन प्रोटीन, उच्च फाइबर कार्बोहाइड्रेट और स्वस्थ वसा शामिल हों। शक्करयुक्त पदार्थ, प्रसंस्कृत ग्रहण और अतिरिक्त शक्कर वाले पेय पदार्थों का सेवन सीमित करें।
नियंत्रण भाग आकार: अधिक भोजन से परिचित और रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने के लिए अपने हिस्से के आकार से सावधान रहें। प्रोटीन और वसा के साथ आपके कार्बोहाइड्रेट सेवन को संतुलित करने से भी ब्लड शुगर स्पाइक्स को रोकने में मदद मिल सकती है।
नियमित शारीरिक स्थिति: अपने स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं द्वारा नियमित व्यायाम में सुधार करते हुए बने रहें। भौतिक चिंता संबंधी भ्रम में सुधार करने में मदद करती है, रक्त शर्करा के स्तर को कम करती है और वजन वेवस्था में मदद करती है।
ड्रग्स और इंसुलिन थेरेपी: मधुमेह के प्रकार और ग्रेविटास के आधार पर, रक्त शर्करा के स्तर को आपके लिए दवा या इंसुलिन थेरेपी की आवश्यकता हो सकती है। आपके लिए सबसे अच्छा उपचार योजना समय पर रहने के लिए अपने स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं के साथ मिलकर काम करें।
रक्त शर्करा के स्तर की निगरानी करें: यह समझने के लिए नियमित रूप से अपने रक्त शर्करा के स्तर की जांच करें कि विभिन्न खाद्य पदार्थ, चटकीले और दवाएं आपके स्तर को कैसे प्रभावित करती हैं। यह जानकारी आपकी मधुमेह प्रबंधन योजना में आवश्यक समायोजन करने में आपकी सहायता कर सकती है।
स्वस्थ वजन बनाए रखें: अधिक वजन होने पर वजन कम करना, या स्वस्थ वजन बनाए रखना रक्त शर्करा नियंत्रण में काफी सुधार कर सकता है। संतुलित आहार और नियमित शारीरिक गतिविधियों से स्वस्थ वजन हासिल करने और उसे बनाए रखने में मदद मिल सकती है।
तनाव का प्रबंधन करें: पुराना तनाव रक्त शर्करा के स्तर को प्रभावित कर सकता है। तनाव प्रबंधन तकनीकों का अभ्यास करें जैसे कि ध्यान, गहरी सांस लेने के व्यायाम, योग, या उन गतिविधियों में एक जगह लाना जो आपको पसंद हैं।
नियमित जांच करवाएं: अपने मधुमेह की निगरानी के लिए अपने स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं के साथ नियमित रूप से मिलने का समय निर्धारित करें, यदि आवश्यक हो तो अपने उपचार योजना को समायोजित करें और अपनी किसी चिंता या प्रश्न का समाधान करें।
यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि मधुमेह एक पुरानी स्थिति है जिसके लिए आधार प्रबंधन की आवश्यकता होती है। जबकि ये चरण रक्त शर्करा नियंत्रण और समग्र कल्याण में सुधार करने में मदद कर सकते हैं, आपकी विशिष्ट आवश्यकताओं के अनुरूप एक व्यक्तिगत योजना विकसित करने के लिए अपनी स्वास्थ्य सेवा टीम के साथ मिलकर काम करना आवश्यक है।



 

पेट में गैस और सूजन योग से अंत



पवन-राहत मुद्रा (पवनमुक्तासन):


पेट में गैस और सूजन से राहत के लिए योग फायदेमंद हो सकता है। कुछ योगासन पाचन को उत्तेजित करने, परिसंचरण में सुधार करने और पेट क्षेत्र में तनाव को कम करने में मदद कर सकते हैं, जो गैस से संबंधित परेशानी को कम करने में मदद कर सकते हैं। यहाँ कुछ योग मुद्राएँ हैं जिन्हें आप आज़मा सकते हैं:



बच्चे की मुद्रा (बालासन):

अपनी पीठ के बल सीधे लेट जाएं।
साँस छोड़ें और अपने घुटनों को अपनी छाती की ओर लाएँ।
अपने हाथों को अपने घुटनों के चारों ओर जकड़ें, या अपनी उंगलियों को अपने घुटने के ठीक नीचे गूंथ लें।
अपने घुटनों को अपनी छाती के करीब रखते हुए अपने पेट पर कोमल दबाव डालें।
गहरी सांसें लेते हुए 1-2 मिनट तक इसी मुद्रा में रहें
रिलीज़ करें और आवश्यकतानुसार दोहराएं।





फर्श पर घुटने टेकें और अपनी एड़ी पर वापस बैठें।

अपने माथे को चटाई पर टिकाते हुए धीरे-धीरे अपने ऊपरी शरीर को आगे की ओर नीचे करें।
अपनी बाहों को अपने सामने या अपने शरीर के साथ फैलाएं, जो भी अधिक आरामदायक हो।
गहरी सांसें लें और अपने पेट की मांसपेशियों को आराम देने पर ध्यान दें।
मुद्रा को 1-2 मिनट तक रोकें।
बिल्ली-गाय मुद्रा (मार्जरीआसन-बिटिलासन):



सुपाइन ट्विस्ट (सुपता मत्स्येन्द्रासन):

चारों तरफ से शुरू करें, अपने हाथों को सीधे अपने कंधों के नीचे और घुटनों को अपने कूल्हों के नीचे रखें।
साँस लें और अपनी पीठ को झुकाएं, अपनी छाती और टेलबोन को छत  की ओर उठाएं।
साँस छोड़ें और अपनी रीढ़ को गोल करें, अपनी ठुड्डी और टेलबोन को  के नीचे टक करें।
गति के साथ अपनी सांस को समन्वयित करते हुए, बिल्ली और गाय के बीच द्रव आंदोलन को कई राउंड के लिए दोहराएं।







अपनी कमर के बल सीधे चलें।
अपने घुटनों को मोड़ें और उन्हें अपनी साइन की दिशा में ले जाएँ।
अपने हाथों को टी-आकार में बंधों तक फैलाएँ।
अपने सोते को धरती पर टिकाते हुए धीरे-धीरे दोनों घुटनों को दाहिनी ओर नीचे करें।
अपने घुटनों के विपरीत दिशा में देखते हुए, अपने सिर को नीचे की ओर मोड़ें।
मुद्रा को 1-2 मिनट तक रोककर रखें और फिर करवटें बदल लें।
अपने शरीर को याद रखें और अपनी गति से लें। यदि आप किसी असुविधा या दर्द का अनुभव करते हैं, तो आसन बंद कर दें और किसी उचित योग प्रशिक्षक या स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर से सलाह लें। गैस और सूजन को रोकने के लिए स्वस्थ आहार बनाए रखें, आपके भोजन को अच्छी तरह से चबाना और फीमेल रहना भी महत्वपूर्ण है।

















शनिवार, 27 मई 2023

किशमिश को रातभर पानी में भिगोकर खाने के फायदे- Soaked in Water Overnight Benefits in Hindi



किशमिश को रातभर पानी में भिगोकर खाने के फायदे-

आयरन की पूर्ति करे भीगे किशमिश ...
बॉडी को डिटॉक्स करें भीगे किशमिश ...
इम्यूनिटी मजबूत बनाए भीगे किशमिश ...
एसिडिटी से राहत दिलाए भीगे हुए किशमिश ...
हड्डियां मजबूत बनाए पानी में भीगे किशमिश ...
फ्री रेडिकल्स से बचाए किशमिश...





मेथी भिगोकर खाने के 5 फायदे

शुगर लेवल को करता है कंट्रोल भारत में डायबिटीज के मरीजों की तादात काफी ज्यादा है. ...
हड्डियां होती हैं मजबूत भगोई हुई मेथी आपके बोन हेल्थ के लिए बेहद फायदेमंद है. ...
बढ़ते वजन का इलाज ... 
कोलेस्ट्रॉल का इलाज ... 
पेट की परेशानी से मिलती है निजात
                                    

साबुत मूंग दाल के फायदे -

एंटीऑक्सीडेंट्स से भरपूर साबुत मूंगदाल एंटीऑक्सीडेंट्स से भरपूर होती है। ...
खराब कोलेस्ट्रॉल के स्तर को करता है कम ...
ब्लड प्रेशर को करे कंट्रोल ...
पाचन के लिए हेल्दी ...
ब्लड शुगर करे कंट्रोल